" "यहाँ दिए गए उत्पादन किसी भी विशिष्ट बीमारी के निदान, उपचार, रोकथाम या इलाज के लिए नहीं है , यह उत्पाद सिर्फ और सिर्फ एक पौष्टिक पूरक के रूप में काम करती है !" These products are not intended to diagnose,treat,cure or prevent any diseases.

Feb 17, 2012

सफलता का मूल मन्त्र सकारात्मक सोच, जोश व जूनून !!


अपने दम पर जिन्दगी जीने वाले कभी असफल नहीं होते ! जैसे की बाज कभी भी मरे हुए जानवर को नहीं खाते ! वो अपना शिकार खुद करते है ! कामयाबी हासिल करने के लिए भगत सिंह की इस लाइन को हमेशा याद रखिए ! " जिन्दगी तो अपने दम पर जी जाती है , दूसरों के कन्धों पर तो जनाजे जाते है !" स्वयं के द्वारा कार्य करने वाले लोग ही सफल होते है ! इसके लिए सबसे पहले तो अपने आप से वादा करना होगा " की हमें भीड़ से अलग पहचान बनाना है ! एक कामयाब लोगों की सूचि में अपना नाम दर्ज करवाना है ! इसके लिए खुद कामयाब लोगों से जुड़ना होगा , उनके तौर तरीके को सीखना होगा ! चुकी नाकामयाब व्यक्ति के समूह या सांगत में रहकर हम कभी कामयाब नहीं हो सकते है ! कामयाबी हासिल करने के लिए जरुरी है आज ही उन तमाम नाकारात्मक प्रवृति के लोगों से नाता तोड़ ले जो हमेश कीड़े-मोकोड़े जैसे जिन्दगी जीना चाहते है और छोटी-मोती तुच्छ चीजों से संतुष्ट हो जाते है और उससे आगे कभी सोचना नहीं चाहते ! हमेशा उन कामयाब लोगों के साथ रहे जो कामयाब है और आगे बढ़ने के लिए उत्साहित रहते है !

आज चर्चा करते है हमारे कम्पनी के लोगो " बाज " के बारे में ------ इस महान पक्षी की सफलता के वो गुण जिनको हम अपने जिन्दगी में अपनाकर सफलता की ऊँचाइयों को छू सकते है ! क्या आपने कभी ऊँचाइयों पर बाज को देखा है ? क्या आप अपनी जिन्दगी में, अपने ऍफ़.एल.पी. व्यवसाय में, वही उंचाइयां हासिल करना चाहते है ? क्या आप शिखर पर पहुंचना चाहते है ? क्या आप अपने सपने साकार करना चाहते है ? क्या आप वास्तव में अमीर बनना चाहते है ? अगर इन सभी प्रश्नों का उत्तर ' हाँ ' है, तो आपको " बाज " बनना पड़ेगा !

' बाज ' सच में अपने इलाके , अपनी जिन्दगी का स्वामी होता है ! उन ऊँचाइयों पर पहुँचने का कल्पना करें, जिन ऊँचाइयों को हासिल करने के लिए लोग डरते है ! परन्तु " बाज " जैसी आजाद जिन्दगी जीने के लिए , अपने सपने को साकार करने के लिए, लक्ष्य को हासिल करने के लिए, अपनी बनाई हुई सीमाओं से मुक्त होना होगा !


" बाज " का विजन बहुत मजबूत होता है :- वो आसमान से पांच किलोमीटर से शिकार को देख लेता है ! हमेशा अपनी नजर वहां पर केन्द्रित रखता है ! चाहे चुनौतियाँ जितनी भी आ जाए , तबतक शिकार से वो नजर नहीं हटाता जबतक हासिल न कर ले ! फॉरएवर व्यवसाय या जिन्दगी के किसी भी क्षेत्र में आगे बढ़ते हुए, चाहे कितनी भी मुश्किलें आ जाए हमेशा अपना विजन मजबूत रखें ! अपनी लक्ष्य की ओर ध्यान केन्द्रित करें ! जीत आपकी एक दिन अवश्य होगी ! कामयाबी हासिल करने के लिए मुश्किलों से नजर हटानी होगी और अपने लक्ष्य की ओर ध्यान केन्द्रित करना होगा !

" बाज " चुनौतियों का मजा लेता है :- बाज ही एकलौता ऐसा पक्षी है , जो तुफानो से प्यार करता है ! जब आसमान में काले बादल आते है तो वो जोश से भर जाता है ! अपने पंख बहुत तेजी से मारता है , वो तेज आँधियों की मदद से ऊँचाइयों तक आँधियों के बीच पहुँच जाता है ! फिर वो पंख मारना बंद करके पंखों को आँधियों के आगे फैलाकर आसमान की ऊँचाइयों का मजा लेता है ! तेज आंधियां बाज को मौका देती है की वो अपने पंखों को आराम दे और हवा के दबाब के साथ उड़ता जाए ! जबकि और पक्षियाँ पेड़ के पत्तियों व टहनियों के आड़ में छिपने की जगह तालाश करते है !

फॉर एवर व्यवसाय में मुश्किलें तो आएगी, लेकिन आपका नज़रिया आप को शिखर पर ले जाएगा ! यह आप पर निर्भर करता है, या तो आप हालात बदल देंगे या हालात आप को बदल देंगे ! हम अपनी जिन्दगी की मुश्किलों के आगे घुटने टेक सकते है या उन्ही मुश्किलों से चैलेंज लेकर आगे बढ़ सकते है या आगे बढ़ने के लिए इस्तेमाल भी कर सकते है !


जिन्दगी में उपर उठने के लिए चुनौतियों का आना और होना जरुरी है ! यह बहुत जरुरी है की मुश्किल हालात से निकलना ही होगा अगर वो आगे बढ़ना चाहते है ! नहीं तो वो कभी नहीं सिख सकते ! अगर तैरना सीखना है , तो पानी में जाना ही होगा और चार-पांच गोता लगाने ही पड़ेंगे ! अगर आगे बढ़ना है , कामयाब बनाना है तो मार्केट में जाना ही होगा , चार लोगों की ना सुनानी पड़ेगी ! या तो हम विफलता के बहाने बना सकते है या मुश्किलों से सीख सकते है ! मुश्किलें एक सर्जरी की तरह होती है जिनके चलते दर्द तो होता है लेकिन वहीँ सर्जरी बड़े दुःख को दूर करने के लिए जरुरी होती है ! वही लोग आसमान की बुलंदियों को छू पाते है जो मुश्किलों से कभी हारते नहीं ! इसी वजह से वो सीखते है, दुनिया में आगे बढ़ते है और दुनिया उनको सलाम करती है !

व्यर्थ चीजो को त्याग करना :- पक्षियों की प्रजाति में बाज की जिन्दगी सबसे ज्यादा होती है, वो 70 साल तक जीता है ! पर इस उम्र तक पहुँचने के लिए उन्हें बहुत सख्त फैसले लेने पड़ते है ! जब वो 40 साल का हो जाता है तब उसके पंजे शिकार पकड़ने, झपटने के काबिल नहीं रहते ! उसकी लम्बी टेडी चोंच झुक जाती है ! उसके बड़े बूढ़े पंख उसकी छाती से अटक जाते है, जिसकी वजह से उसे उड़ने में भी मुश्किल होती है ! तब बाज के पास दो ही रस्ते होते है
1 . हालातों को अपने ऊपर हावी होने दे और मारना स्वीकार करें------ या
2 . 150 दिनों में एक दर्दनाक प्रक्रिया से निकले जिसकी वजह से उसे नया जीवन मिले !


बाज कभी भी हार नहीं मानता और अपने घोंसले के तरफ उड़ जाता है, अपनी चोंच को तब तक चट्टान के साथ मारता है, जबतक वो उखड ना जाए ! तब उसके बाद नई चोंच आने का इंतज़ार करता है ! उसके बाद अपने नाखूनों को भी उखाड़ता है ! जब उसके नए नाख़ून दुबारा आते है तब वो अपने पुराने पंखों को उखाड़ना शुरू करता है ! इस साड़ी प्रक्रिया में पांच महीने लगते है और उसके बाद उसके नए पंख आ जाते है तो उसका नया जन्म होता है ! वो एक नई उड़ान भरता है और इस तरह से वो ही बाज जो मरने की कगार पर खड़ा था , 30 साल और जीता है !

कई बार जिन्दा रहने के लिए, आगे बढ़ने के लिए बेकार चीजों को परित्याग करना और परिवर्तित प्रक्रिया से निकलना बेहद जरुरी होता है ! हमें सफलता के लिए नई आदतों को अपनाना पड़ेगा जिसकी वजह से हम तरक्की की ओर आगे बढ़ेंगे ! हमें पुराणी आदतों को छोड़ना पड़ता है , जिनको साथ लेकर हम आगे नहीं बढ़ सकते ! मुझे विशवास है की सफलता की उड़ान से आप प्रेरणा अवश्य लेंगे ! इसे पढने के बाद अपनी सफलता की राह की रुकावटों को नई नजर से देखेंगे !

तो फिर उड़ने के लिए तैयार हो जाए हम एक दिन शिखर पर जरुर मिलेंगे !!!

For Aloe Vera products Join Forever Living Products for free as a Independent Distributor and get Aloe Vera products at wholesale rates! (BUY DIRECT AND SAVE UP TO 30%)To join FLP team you will need my Distributor ID (Sponsor ID) 910-001-720841.or contact us- admin@aloe-veragel.com एलोवेरा के बारे में विशेष जानकारी के लिए आप यहाँ यहाँ क्लिक करें

"एलोवेरा " दिल को रखें दुरुस्त - एलोवेरा जेल से !
सर्दियों में भी रखें त्वचा जवाँ - एलोवेरा युक्त उत्पाद से ! !

1 comments

indianrj February 29, 2012 at 2:07 PM

बहुत बेहतरीन तरीका ज़िन्दगी में मेहनत की अनिवार्यता को समझाने का. बाज़ का उदाहरण भी बहुत खूब रहा.

Post a Comment