" "यहाँ दिए गए उत्पादन किसी भी विशिष्ट बीमारी के निदान, उपचार, रोकथाम या इलाज के लिए नहीं है , यह उत्पाद सिर्फ और सिर्फ एक पौष्टिक पूरक के रूप में काम करती है !" These products are not intended to diagnose,treat,cure or prevent any diseases.

Jul 28, 2010

सस्ते व नकली एलोवेरा ( ग्वार पाठा ) जूस से सावधान |


एक बार फिर से सप्ताह उपरांत ब्लॉग पर कुछ लिखने का अवसर मिला | फिर से वही अंतरजाल की समस्या और इस बार तो कुछ ज्यादा ही परेशान किया | लेकिन अंततः हमारे रतन सिंह जी ने मसला का अंत किया | बेहद सुकून महसूस कर रहा हूँ | चुकी मस्तिस्क पटल पर ना जाने कैसे कैसे सवाल आते रहे और जाते रहे पर विवशता मेरी यह थी की अन्तरमन में सहेजने के सिवाय और कोई रास्ता नहीं था | आज एक बार पुनः आपके समक्ष स्वस्थ्य से सम्बंधित कुछ जानकारी है जो( बेहद मार्मिक भी है और जागरूकता अभियान भी), लेकर चर्चा करने जा रहे है |

दरअसल एक जग प्रशिद्ध कहावत है " अच्छी सेहत सबसे बड़ी पूंजी है " | चुकी स्वस्थ्य तन में ही स्वस्थ्य मन का निवास होता है | मन अगर प्रसंचित है तो प्रत्येक वस्तु में आपको ख़ुशी नजर आएगी | परन्तु मन की अस्वस्थता लोगों को जीवन की आनंद से वंचित कर देता है | अतः सच्ची सुख उन्ही को है जो वास्तव में मानसिक और शारीरिक दोनों रूप से स्वस्थ्य है |

लेकिन स्वस्थ्य व्यक्ति किसे कहा जा सकता है ? सेहतमंद होने का क्या लक्ष्ण है जिनके आधार पर हम यह जान सके की हम रोगी है या निरोगी ? यों तो अधिकांश व्यक्ति अपनी सेहत को लेकर सजग यानि जागरूक होते है और थोड़ी सी परेशानी महसूस होने पर चिकित्सक के पास दौड़ पड़ते है |

विगत सप्ताह की समाचार को ही ले लीजिये :- आप सब ने जरुर ध्यान दिया होगा, एलो वेरा के बारे में आज तक पर चर्चा हो रही थी |
समाचार देखकर पहले तो मैंने सकारात्मक सोच के साथ बैठा और सोचा- शुक्र है आज तक जैसे नंबर एक चैनल पर दुनिया की नंबर एक आयुर्वेदिक औषधि एलोवेरा की चर्चा हो रही है चलो ये बहुत ही अच्छा साधन है प्रचार प्रसार का |
दरअसल विगत कुछ सालों से एलोवेरा एक सर्वश्रेष्ठ बनौषधि के रूप में अपनी पहचान बनाने में सफल साबित हुई है, वर्तमान में तो प्रत्येक चैनल पर एलो वेरा अपने किसी न किसी रूप में नजर आते ही है |

परन्तु आज तक चैनल पर जब मुद्दा उभरकर जब सामने आया तो मैं सन्न रह गया- एक बार फिर से एलोवेरा जूस के साथ घोटाला | जी हाँ आज तक जैसे सर्वश्रेष्ठ चैनल का खुलासा था एलोवेरा जूस पीकर दो विदेशी बेहोश हो गए |
गायत्री एलोवेरा एक जाने माने नाम है:-
Gayatri Herbals Pvt.Ltd.Thane (W) Maharashtra,Phone +(91)-(22)-65768937/25475080 Fax :+(91)-(22)-२५४७५०८० Mobile :+(91)-९८३३९७६१८० |

दोनों विदेशी शैलानी भारत आई हुई थी और जाते वक्त एलो वेरा जूस लेकर अपने वतन लन्दन को चली गई और वहां जाने के बाद इस जूस का सेवन किया , तुरंत बाद ही वो बेहोश हो गई ऐसा एक नहीं दूसरी औरत भी ठीक उसी प्रकार से पिने के बाद बेहोश हो गई जिससे पुरे लन्दन में जंगल की आग के तरह यह समाचार फ़ैल गई की गायत्री एलोवेरा जूस अगर मिले तो वहां के पुलिश को बताएं |

जैसा की मैंने कई बार चर्चा किया है की एलो जूस का परिरक्षित रखना अगर किसी के पास भी हो जाए तो वो व्यक्ति अपने आप में हिंदुस्तान का सबसे बड़ा वैज्ञानिक सिद्ध हो सकता है पर हर्बल पद्धति के तहत हो ताकि जूस सालों साल तक सुरक्षित रखा जाए |
दूसरी बात यह है की ३०० प्रकार के पौधों में ११ पौधा जहरीला भी होता है , अब कौन जाने किसके भाग्य में वो जहर वाली पौधा का जूस लिखा है?

चुकी यहाँ लोग ज्यादा से ज्यादा पैदावार बढ़ाने और जल्द से जल्द कटाई करके अपने जेब भरने के लिए अधिक मात्रा में रासायनिक खाद का प्रयोग करते है , जो शारीर के लिए घातक भी सिद्ध हो सकता है | बड़े से बड़े कंपनी भी आज एलोवेरा का पत्ते राजस्थान, अलीगढ , और ना जाने कहाँ कहाँ से मंगवाते है जबकि पत्ते भी काटने के २ से ३ घंटे बाद ही अपनी गुणवता खो देती है और ओक्सीडाई होकर एक प्रकार से विषैला भी हो सकता है जो शरीर के लिए हानिकारक सिद्ध हो सकता है |

एक बात और बता दें अगर एलोवेरा जूस को परिरक्षित रखना इतना आसन होता तो तो मुकेश अम्बानी जी का रिलायंस कंपनी शोध में लाखों बर्बाद करके पीछे नहीं हट सकता था |
आज फॉर एवर लिविंग प्रोडक्ट जो दुनिया का नंबर एक कम्पनी है एलोवेरा के क्षेत्र में ३० साल तक शोध में लगाने के बाद वह सूत्र मिल पाया जिसे पेटेंट करबा दिया ताकि कोई और इस सूत्र से जूस नहीं बना सकें | परन्तु आज सस्ते एलो जेल के वजह से व्यक्ति फंस जाता है और उन्हें लाभ के वजाय हानि उठाना पड़ता है |


अतः आप इस तथ्य को समझे और किसी ऐरे - गैरे ब्रांड के झांसे में न आये, जूस अगर पीना ही है तो सिर्फ ब्रांडेड अन्यथा न पियें नहीं तो अगली बारी किसी की भी हो सकती है चुकी लोकल ब्रांड में गुणवता को कायम रखना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है | तो अगली बार सेहत से कोई समझौता नहीं और जूस अगर मिलता है बाजार का तो इसमें IASC, NO TESTED ON ANIMAL, ISLAMIC SEAL OF APPROVAL,IDSA ये कुछ प्रमाणीकरण होनी ही चाहिए | अगर ये सब प्रमाणीकरण बोतल में है तो आप जरुर प्रयोग में ला सकते है |

एलोवेरा के कोई भी स्वास्थ्यवर्धक उत्पाद 15 % छूट पर खरीदने के लिए admin@aloe-veragel.com पर संपर्क करें और ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें
"एलोवेरा " ब्लॉग ट्रैफिक के लिए भी है खुराक |
अरे.. दगाबाज थारी बतियाँ कह दूंगी !

1 comments

Udan Tashtari July 29, 2010 at 9:08 AM

हद हो ली यह तो..इसमें भी नकली.

Post a Comment