" "यहाँ दिए गए उत्पादन किसी भी विशिष्ट बीमारी के निदान, उपचार, रोकथाम या इलाज के लिए नहीं है , यह उत्पाद सिर्फ और सिर्फ एक पौष्टिक पूरक के रूप में काम करती है !" These products are not intended to diagnose,treat,cure or prevent any diseases.

Jun 5, 2010

शाकाहारी बने स्वास्थ्य रहें


वैज्ञानिकों एवं चिकित्साशास्त्रियों ने विभिन्न प्रकार के अनुसंधानों से यह निश्चित रूप से पुष्टि कर दिया है की मनुष्य के शरीर की रचना एवं शरीर के विभिन्न अंग जैसे मुंह, दाँत, हाथों की अंगुलियाँ, नाख़ून एवं पाचन तंत्र की बनावट के अनुसार वह एक शाकाहारी प्राणी है |

मनुष्य का शरीर, शरीर के विभिन्न अंग एवं पाचन प्रणाली मांसाहारी प्राणियों जैसी नहीं है | भारत ही नहीं, अपितु दुनिया के सारे प्राणी यह मानाने लगा है की शाकाहार ही मनुष्य की प्रकृति और उसके शरीर तंत्र की अन्दुरुनी एवं बहरी संरचना के सर्वथा अनुकूल है | अमेरिकी प्रसिद्ध बिजनेस पत्रिका फार्ब्स के अनुसार 1998 से 2003 तक शाकाहारी खाद्य पदार्थों की बिक्री दोगुनी हो गई है

आज के इस तनाव भरी आर्थिक और विषम सामाजिक परिस्थितियों के बिच जी रहा मनुष्य यही चाहता है की वह किसी भी प्रकार के शरीरिक व मानसिक दुःख से पीड़ित न हो | स्वास्थ्य का सम्बन्ध शरीर से है और प्रत्येक व्यक्ति मन और तन दोनों से स्वाथ्य रहना चाहता है |

इश्वर ने मनुष्य को सर्वगुण संपन्न शरीर प्रदान की है | सामान्य रूप से यह शरीर सौ वर्ष तक स्वस्थ रह सकता है या उससे अधिक भी | परन्तु स्वस्थ रहने और लम्बी आयु के लिए आवश्यक है की वह बचपन से ही संयमित और सात्विक जीवनचर्या का पालन करें | मनुष्य अपने आचार-विचार और आहार की पवित्रता से ही वह अपने इस मानव जीवन का सदुपयोग करते हुए भरपूर आनन्द उठा सकता है |

आज दुनिया के बड़े-बड़े देश शाकाहार अपना रहे है | सर्वेक्षण के अनुसार शाकाहार अपनाने के पीछे 34 फीसदी लोगो का मानना है की वे अनैतिक मानते हुए शाकाहार बने है | 12 फीसदी धार्मिक कारणों से, तो 6 फीसदी अपने परिजनों और दोस्तों की वजह से शाकाहारी बने है | शाकाहार अब एक अभियान बनता जा रहा है |
दुनिया के विभिन्न क्षेत्रों से सम्बन्ध रखने वाली मशहूर हस्तियाँ जैसे रुसी लेखक टालस्टाय, लियोनार्दो डी विन्ची, अब्राहम लिकन, प्लूटो, सुकरात, रविंद्रनाथ टैगोर,अलबर्ट आइन्स्टाइन, डा.ए.पी.जे.अब्दुल कलाम, अमिताभ बच्चन, ब्रेड पिट, केट विसंलेट जैसी ख्याति प्राप्त हस्तियों ने शाकाहार को जीवन में अपनाया |


शाकाहार में भोजन तंतु प्रयाप्त मात्रा में होते है | भोजन तंतुओं की प्रयाप्त्ता से पाचन तंत्र के क्रिया प्रणाली सही तरीके से संचालित होती है | शाकाहार से व्यक्ति कब्ज़, कोलाइटिस, बवासीर जैसी बिमारियों से काफी हद तक बचा रहता है | शाकाहार से आँतों के कैंसर की सम्भावना भी कम हो जाती है | शाकाहार में सभी पोषक तत्व,प्रोटीन, विटामिन, खनिज लवण उचित अनुपात में होते है |

विश्व प्रसिद्ध वैज्ञानिक व विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अब यह सिद्ध कर दिया है की भीषण बीमारियों जैसे कैंसर, ह्रदय रोग आदि को शाकाहार द्वारा काफी हद तक कम किया जा सकता है | शाकाहारी भोजन ने वसा अपने उचित अनुपात में होती है अर्थात बहुत ज्यादा भी नहीं और बहुत कम भी नहीं परन्तु मांसाहारी भोजन में वसा की प्रचुरता होती है जिसके कारण ह्रदय रोग की सम्भावना बढ़ जाती है | वसा की अधिकता से कोलेस्ट्रोल का स्तर रक्त में बढ़ जाता है | कोलेस्ट्रोल से रुधिर नलिकाएं तंग हो जाती है और धीरे-धीरे बंद हो जाती है जिससे रक्त प्रवाह में अवरोध उत्पन्न होने लग जाता है | यह हार्ट अटैक का एक प्रमुख कारण है | डॉक्टरों का कहना है की ह्रदय रोगों से बचने के लिए मनुष्य को मांसाहार का सेवन बिलकुल नहीं करना चाहिए |
अतः शाकाहार को अपनाएं जीवन स्वास्थ्य बनायें


एलोवेरा के कोई भी स्वास्थ्यवर्धक उत्पाद 15 % छूट पर खरीदने के लिए admin@aloe-veragel.com पर संपर्क करें और ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें
"एलोवेरा " ब्लॉग ट्रैफिक के लिए भी है खुराक |
अरे.. दगाबाज थारी बतियाँ कह दूंगी !

3 comments

निशांत मिश्र - Nishant Mishra June 5, 2010 at 1:28 PM

शाकाहार ही उत्तम है लेकिन मैं शाकाहार नहीं बन सकता, जैसा आपने पोस्ट के टाइटल में लिखा है.

Rambabu Singh June 6, 2010 at 8:38 AM

धन्यबाद मिश्रा जी
मैं पोस्ट के टाइटल को सुधार लेता हूँ |

Ratan Singh Shekhawat June 6, 2010 at 8:04 PM

बढ़िया स्वास्थ्यवर्धक जानकारी

Post a Comment