" "यहाँ दिए गए उत्पादन किसी भी विशिष्ट बीमारी के निदान, उपचार, रोकथाम या इलाज के लिए नहीं है , यह उत्पाद सिर्फ और सिर्फ एक पौष्टिक पूरक के रूप में काम करती है !" These products are not intended to diagnose,treat,cure or prevent any diseases.

Sep 12, 2010

एसिडिटी और मोटापे से कैसे बचे ?

क्या आप एसिडिटी और मोटापे की समस्या से परेशान है ? या किसी काम में अपने मन को एकाग्रचित नहीं कर पा रहे है ? यादास्त की भी समस्या हो रही है? अगर ऐसा आपके साथ हो रहा है, तो आपका जरुर सोने और जागने का समय ठीक नहीं हो सकता है |

वर्तमान की भागम-भाग जिन्दगी की सबसे बड़ी समस्या है दिनचर्या की उचित ढंग से पालन नहीं करना | इसका प्रतिकूल असर हमारे सेहत पर पड़ता है | सूर्योदय से पहले यानि ब्रह्म मुहूर्त में जागना स्वास्थ्य के लिए बहुत ही फायदेमंद सिद्ध होता है | सुबह की तरोताजा हवा, विशुद्ध वातावरण हमारे मन, शरीर व दिमाग को प्रफुलित कर देता है |


ऐसे में मन को एकाग्रचित करना बेहद सुखद अनुभूति होता है | ब्रह्म मुहूर्त में जागने से हमारे शरीर की प्रतिरक्षा तंत्र में भी मजबूती आती है |
और भी कई फायेद है सुबह जल्दी जागने का :-
> पेट साफ़ रहता है कब्ज़ और अपच जैसे समस्या नहीं होती है |
> दिनभर अपने आपको हल्का और खुशहाल महशुस करेंगे |
> दिन भर के कार्यक्रम बनाने में भी आसान होता है |
> मानसिक तौर पर भी मजबूती मिलेगी, यादास्त बढ़ेगी |
> उगते हुए सूरज को देखना, बहुत अच्छा संकेत माना जाता है |

सुबह दिनचर्या के काम से पहले नाश्ता जरुर करें | सुबह का नास्ता को "व्रेन फ़ूड" कहा जाता है | चुकी दिन भर का महत्वपूर्ण आहार है सुबह का नास्ता | रात के खाने के बाद और सुबह के नाश्ते के बिच का लम्बा अंतराल हो जाता है और अगर सुबह का नास्ता नहीं किया जाय तो अंतराल और भी बढ़ जाता है |

हम बेशक सोते है परन्तु मस्तिस्क नींद में भी सक्रीय होता है | ऐसे में दिमाग को ग्लूकोज की आवश्यकता होती है | अर्थात सुबह का नास्ता न करने से ग्लूकोज की कमी होने लगती है | ऐसे में शारीरिक व मानसिक क्षमता का हास होने लगती है, जो सेहत के लिए हानिकारक होता है |


विशेषज्ञों के अनुसार सुबह का नास्ता करने से दोपहर में भूख कम लगती है जिससे आप आवश्यकता से अधिक कलोरी नहीं लेते है और फैट नहीं बढ़ता है |

सुबह का नास्ता संतुलित होना चाहिए | इसमें काल्सियम,( दूध या दूध से बनी चीजें ), प्रोटीन, रेशेदार पदार्थ ( अंकुरित आनाज ), और एंटीओक्सीडेंट( सेब,स्ट्राबेरी,केला,संतरा ) और विटामिन होना चाहिए | और नित्य एलो वेरा जूस का सेवन करें , एसिडिटी और पेट के किसी भी प्रकार के रोगों से मुक्ति पायें |

For Aloe Vera products Join Forever Living Products for free as a Independent Distributor and get Aloe Vera products at wholesale rates! (BUY DIRECT AND SAVE UP TO 30%)To join FLP team you will need my Distributor ID (Sponsor ID) 910-001-720841.or contact us- admin@aloe-veragel.com
एलोवेरा के बारे में विशेष जानकारी के लिए आप यहाँ यहाँ क्लिक करें

"एलोवेरा " ब्लॉग ट्रैफिक के लिए भी है खुराक |
अरे.. दगाबाज थारी बतियाँ कह दूंगी !

7 comments

Udan Tashtari September 12, 2010 at 3:22 AM

बढ़िया जानकारी.

honesty project democracy September 12, 2010 at 3:58 AM

सार्थक और सराहनीय प्रस्तुती...

अजय कुमार झा September 12, 2010 at 8:05 AM

बहुत काम की जानकारी दी है रामबाबू ....एलोवेरा का सेवन शुरू तो किया है .अब फ़ायदा होते ही बताएंगे आपको

Rambabu Singh September 12, 2010 at 11:09 AM

झा जी , आपका बहुत बहुत धन्यबाद |
आपके एलो वेरा जेल के सेवन से मेरा छोटा सा प्रयास सार्थक रहा |

Ratan Singh Shekhawat September 13, 2010 at 7:33 AM

सराहनीय प्रस्तुती

sandhya September 15, 2010 at 5:45 PM

aelowera ki matra aur kitni bar lena hai kripya batayen.

Rambabu Singh September 16, 2010 at 7:34 AM

अपना कीमती वक्त देने के लिए सर्वप्रथम आपका बहुत बहुत धन्यबाद | आप सुबह बिलकुल खाली पेट नित्यक्रिया से निवृत होने के पश्चात् 30ml यानि की 3 ढक्कन से शुरू करें | उसके आधे घंटे बाद दो गिलास गुनगुना पानी अवश्य पियें, ठीक उसी प्रकार से रात का खाना खाने से एक घंटा पहले ले | फिर एक सप्ताह उपरान्त आप धीरे-धीरे पाँच ढक्कन तक ले सकते है | जेल किसी उच्च गुणवता और विश्वशनीय कम्पनी का ही ले |

Post a Comment